Get Indian Girls For Sex
           


(उसकी चूत से खून निकलने लगा। वो दर्द से जैसे बेहोश ही हो गयी थी। लेकिन उसके डैडी ने कुछ भी रहम नहीं दिखाया। क्रांति की चूत का तो आज़ कचूमर ही बनाने वाले थे।)

92025_08big (2)
आज उसका जन्मदिन था। वो काफ़ी उत्साहित थी। उसे पता था कि डैडी ने उसके जन्मदिन के लिए शाम को पार्टी रखी है। वो जल्दी जल्दी उठकर फ्रेश होकर हॉल में आ गई। जब वो हॉल में आई तो सिर्फ़ डैडी ही बैठे थे। उसने डैडी को पूछा कि मम्मी कहाँ गयी तो डैडी ने कहा कि वो तोहफ़ा लेने को मार्केट गयी है। तो क्रांति ने डैडी को पूछा कि अप मेरे लिए तोहफ़ा नहीं लेकर आए?
डैडी ने क्रांति को गौर से देखा। क्रांति को महसूस हो रहा था कि डैडी क्रांति की चूचियों को नाइटी के ऊपर से देख रहे है। पर उसने कोई प्रतिक्रिया नहीं की। डैडी ने कहा कि मेरा तोहफ़ा तो तुमको मम्मी की अनुपस्थिति में ही खोलना होगा।
क्रांति ने मासूमियत से कहा चलेगा ! आप दो तो सही !
डैडी ने कहा- ठीक है तुम मेरे पास आकर बैठो और मैं तुमको एक सबसे अच्छा तोहफ़ा देता हूँ।
वो भोलेपन से अपने पापा के पास जाकर बैठी तो उसके पापा ने कहा कि तुम्हारी कमर कितनी है?
उसने कहा- 28 इंच।
तो पापा ने कहा- इतनी छोटी है ! वाओ … टाइट है मतलब !
ये सुनकर क्रांति को अजीब लगा। उसके पापा ने कहा- तुम खड़ी हो जाओ, मैं तुम्हारी छाती मापता हूँ।
क्रांति इस बार भी बड़ी मासूमियत डैडी के सामने आकर खड़ी हो गई। डैडी ने बड़ी ही बेशर्मी से क्रांति के चूचियों को हाथ लगाते हुए पेट पर रखा। इस तरह से हाथ घूमाते हुए डैडी को पता लगा कि क्रांति ने मॅक्सी के अंदर कुछ नहीं पहना।
डैडी ने कहा- पेट तो काफ़ी अंदर है पर तुम्हारे बूब्स काफ़ी बड़े हैं। क्रांति को ये बात सुनकर शरम सी आने लगी। उसने कहा- डैडी ऐसे मत कहो ना। डैडी ने कहा- ठीक है मुझे ठीक से नाप लेने दो। ये कहकर डैडी एकदम से क्रांति की चूचियाँ दबाने