loading...
Get Indian Girls For Sex
   

(छवि की आखों से पानी निकल गया और छवि लंड को बाहर निकालने की कोशिश कर रही थी..लेकिन सतपाल जी ने उसकी कमर कसकर पकड़ी हुई थी ताकि वो हिल ना पाए थोड़ी देर ऐसे ही सतपाल जी ने अपना आधा लंड छवि की चूत में रहने दिया…)

2

First Read >>कोई और चोद रहा था मेरी बीवी को भाग 1

तो दोस्तों फिर अंकल ने मेरी बीवी का सर पकड़ा और लंड की तरफ झुकाया और बोला कि पूरा लंड मुहं में लो.. लेकिन मुझे नहीं लगता था कि पूरा उसके मुहं में जा पाएगा. फिर भी छवि ने अपना पूरा मुहं खोला और पहले लंड के सुपाड़े को मुहं में डाला. उनका सुपाड़ा ही इतना बड़ा था कि छवि का मुहं भर गया. फिर छवि ने अपने दोनों होंठ अंकल के लंड के आस पास ऐसे घुमा दिए जैसे अभी पूरा अंदर खींच लेगी और वैसा ही हुआ.. उसने पूरा लंड अपने मुहं में डाल लिया.. लेकिन मुझे यकीन नहीं हुआ कि उनका आधे से ऊपर ज्यादा लंड छवि के मुहं के अंदर था. फिर भी उन्होंने छवि का सर दबाया और पूरा लंड अंदर तक लेने को कहा.. लेकिन पूरा अंदर करते करते उसकी आँख से पानी निकल गया और उसने पूरा लंड बाहर निकाल दिया. मैंने देखा कि पूरा लंड गीला हो गया था और छवि का मुहं जैसे खुला का खुला ही रह गया. तो अंकल ने उससे पूछा कि कैसा लगा? तो उसने इशारे में कहा कि मज़ा आ गया और लंड को एक हाथ से पकड़कर अपने मुहं में अंदर बाहर करने लगी. अंकल भी उछल उछलकर मज़ा ले रहे थे.. फिर..

अंकल : क्यों आज कुछ और मज़े करने है?

छवि : सर हिलाते हुए हाँ कहा.. कि क्या मज़े करोगे?

अंकल : एक मिनट रूको.. कंप्यूटर चालू करो.

छवि : चालू ही है.

अंकल ने उठकर अपनी पेंट को लिया और उसकी जेब में से एक पेन ड्राईव निकाला और कंप्यूटर में लगाया

छवि : क्या ब्लूफिल्म है?

अंकल : हाँ.

छवि : मैंने बहुत देखी है.. अरमान जब भी करते है चालू कर देते है.

अंकल : लेकिन यह थोड़ी अलग है.

छवि : क्यों ऐसा क्या खास है इसमे?

अंकल : तुम देखो तो सही खुश हो जाओगी और सारी थकान मिट जाएगी.

छवि : ठीक है दिखाओ.

अंकल : हाँ दिखता हूँ बस आ जाओ अब पास में.

छवि को अंकल ने अपनी गोद में बैठा लिया और बेड पर बैठ गये. तो मैंने देखा कि छवि के दोनों पैरों के बीच में से अंकल का मोटा लंड निकला हुआ था और छवि की पूरी चूत ढक गयी थी. तभी थोड़ी देर में फिल्म चालू हुई वो आफ्रिकन आदमी की थी और वो किसी गोरी मेडम के साथ थी. वो गोरी उसे सक कर रही थी और उसका मोटा और तगड़ा लंड देखकर छवि के चहरे के हावभाव बदल रहे थे और में छवि की तरफ ही देख रहा था. छवि ने अंकल के लंड को एक हाथ से पकड़ रखा था और अंकल छवि के बूब्स को दबा रहे थे.. इतने में फिल्म में आफ्रिकन आदमी का एक दोस्त आया और वो दोनों गोरी को चोदने लगे. तो वो देखकर छवि के होश उड़ गये.

छवि : बाप रे दोनों एक साथ में.

अंकल : हाँ ऐसे बहुत मज़ा आता है.

छवि : उसमे मज़ा क्या? बैचारी की हालत खराब हो जाती है.

अंकल : नहीं.. कुछ नहीं होता.. बहुत मज़ा आता है क्या तुमने कभी ट्राई किया है?

छवि : नहीं.. कभी नहीं. मुझे तो बहुत डर लगता है.

अंकल : कुछ नहीं होता उसमे.

छवि : नहीं बाबा तुम्हारा ही इतना मोटा है.. मुझे तो इससे ही बहुत डर लगता है.

अंकल : इसमे डरने की क्या बात है? जितना मोटा हो उतना ज़्यादा मज़ा देता है.

छवि : वो तो है.. लेकिन मुझे तो डर लगता है.

अंकल : अगर एक बार दो को एक साथ ट्राई करोगी तो खुश हो जाओगी.

छवि : ना बाबा.. मुझे तो सच में बहुत डर लगता है.

अंकल : कुछ नहीं होता.

छवि : नहीं अंकल प्लीज.

अंकल : अरे कुछ नहीं होगा.. अगर ऐसा हो तो एक के बाद एक ट्राई करना.

छवि : नहीं.

अंकल : छवि डार्लिंग ट्राइ करने में क्या जाता है? अगर मज़ा ना आए तो में अकेले ही करूँगा और वो सिर्फ़ देखेगा ठीक है.

छवि : नहीं अंकल किसी को पता चल गया तो बहुत दिक्कत होगी.

अंकल : क्यों हमारे बारे में आज तक किसी को पता चला?

छवि : लेकिन कुछ दिक्कत तो नहीं होगी ना?

अंकल : तुम्हे मुझ पर भरोसा है ना.

छवि : हाँ वो तो है.

अंकल : बस तो फिर में क्या उसे कॉल करूं?

छवि : किसको कॉल कर रहे हो?

अंकल : एक दोस्त है.

छवि : कौन?

अंकल : अरे तुम एक बार देखो फिर पहचान जाओगी और वो आए तब तक हम ये फिल्म देखते है और उसमे क्या करते है वो तुम ज़रा ध्यान से देखो? और थोड़ी देर बाद तुम्हे भी ऐसे ही मज़ा लेना है. फिर मैंने छवि को देखा तो वो फिल्म को इतना मजा लेकर देख रही थी जैसे उसको भी वो सब करना है. तो करीब 10 मिनट ही हुए होंगे कि दरवाजे पर बेल की आवाज़ आई.. अंकल चादर लपेट कर गये और दरवाजा खोला और दरवाजा बंद होने की आवाज़ आई. तभी थोड़ी देर के बाद मैंने देखा कि अंकल जैसा ही एक तगड़ा पंजाबी कमरे में आया. छवि ने कुछ नहीं पहना था और बेड पर बैठी हुई थी वो दूसरे मर्द को देखकर चकित हो गई और बोली कि अंकल यह तो हमारे ही पीछे वाले बंगले में रहते है और यह सतपाल अंकल है ना. तो भूपी अंकल ने कहा कि हाँ वही है छवि थोड़ी देर तो चकित हो गयी.

तभी थोड़ी ही देर में सतपाल जी ने छवि को छूना शुरू कर दिया और छवि ने उनको देखा और सतपाल जी ने आँखो से इशारा किया और छवि ने सतपाल जी की भी पेंट उतार दी और उन्होंने अंदर एकदम टाईट अंडरवियर पहना था. तो लंड के कारण वो अभी फट जायगी ऐसा लग रहा था छवि ने थोड़ी देर अंडरवियर के ऊपर से ही लंड को सहलाया और सतपाल जी के सामने देखकर ऐसे हावभाव देने लगी कि बहुत मोटा और तगड़ा लंड है आपका सतपाल जी ने छवि का सर पकड़कर उसका मुहं अपने अंडरवियर पर लगाया. तो छवि ने वहाँ पर किस किया और अंकल के सामने देखकर दोनों हाथ अंडरवियर पर रखकर इशारा किया कि अंडरवियर उतार दूँ. तो सतपाल जी ने इशारे से कहा कि ठीक है और जैसे ही छवि ने अंडरवियर उतारा तो उनका लंड उछलकर