Get Indian Girls For Sex
Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

मैं इस साईट की लगभग सारी कहानियाँ पढ़ता हूँ। मुझे सारी कहानियाँ बेहद ही अच्छी लगी। उनको पढने के बाद मैं आपके लिये एक ऐसी कहानी लाया हूँ जिसे मैंने अपनी आँखों के सामने होते हुये देखा था। इससे पहले कि मैं अपनी कहानी को शुरु करूँ, सबसे पहले मैं उन दोनों लोगों का परिचय आपसे करा दूँ।

इस कहानी में दो लोग- कोई और नहीं एक मेरी माँ और दूसरा एक इन्सान मेरे अंकल जी जिसकी उमर साठ साल की है। यह कहानी वैसे तो कुछ पुरानी है लेकिन मेरे सामने जब भी वो दिन याद आता है तो मुझे ऐसा लगता है कि यह कल की ही बात है। मेरा नाम धीरज है हमांरे परिवार में मैं, माँ और पापा हैं। मेरे पापा सेल्समैन हैं, वो कई कई दिनो तक बाहर रहते हैं…।

वैसे भी हमांरे सारे सम्बन्धी गांव में रहते हैं, हम साल में दो या तीन बार जाते हैं। वहाँ हमांरे अंकल जी रहते हैं, उनकि पत्नी की मौत के बाद वो अकेले ही रहते हैं। हम नवरात्रि में गाँव जाने वाले थे। पापा भी आने वाले थे लेकिन उनको कुछ काम आ गया तब उन्होंने हम दोनों को गांव जाने के लिये कहा।

माँ ने कहा- ठीक है।

तब मैंने देखा कि माँ खुश थी और पैकिंग करने लगी। हम लोग सुबह की ट्रेन से गाँव पहुँच गये। वहाँ अंकल जी हमें लेने के लिये आये हुये थे। माँ उनको देख कर खुश हो गई और अंकल जी भी खुश हुए, उन्होने पूछा- गौरव नहीं आया?

loading...

माँ ने कहा- उनको कुछ काम आ पड़ा है, वो दो तीन दिन बाद आयेंगे।

और अंकल जी माँ को देखते रहे और माँ भी उनको देखते रही। मुझे कुछ दाल में काला नजर आया …

हम लोग बैलगाड़ी में बैठे और अंकल जी ने मुझे कहा- तुम चलाओ।

मैंने कहा- ठीक है।

माँ और अंकल जी पीछे बैठ गये। थोड़ी दूर चलने के बाद मैंने माँ की आवाज़ सुनी, पीछे देखा तो अंकल जी का पैर माँ के साये में था और माँ ने मुझ से कहा कि सामने देख कर चलो।

हमें लोग घर पहुंचे तब माँ बाथरूम में चली गई और थोड़ी देर बाद बाहर आई……।।

अंकल जी ने कहा- चलो, तुमको खेत में ले चलता हूँ।

माँ मुस्कुराते हुए बोली- हाँ चलिये।

मैं भी साथ था। हम लोग खेत में पहुँचे तो मैंने अंकल को जी माँ की गाण्ड पर हाथ फिराते हुए देखा।

तब माँ ने कहा- लड़का इधर है, वो देख लेगा।

उनको पता नहीं था कि मैंने देख लिया था।

तब अंकल जी ने मुझसे कहा- बेटा, तुम दूर जा कर खेलो। मुझे तुम्हारी माँ से बातें करनी हैं।

तो मैंने माँ को देखा तो माँ अंकल जी के सामने देख कर मुस्कुरा रही थी और मुझे कहा कि तुम यहाँ से जाओ……।

मैं वहाँ से चलने लगा और माँ-अंकल जी भी खेत के अन्दर दूर जाने लगे। मुझे दाल में काला नज़र आया। मैं भी उनके पीछे पीछे गया तो देखा कि अंकल जी माँ की दोनों एक पेड़ की आड़ में चले गये और माँ पेड़ से लग कर खड़ी हो गई। अब अंकल जी अपना हाथ माँ के साये में डालने लगे और माँ भी अपना साया उठा कर उनका साथ देने लगी। लेकिन मुझे उनकी कोई भी बातें सुनाई नहीं दे रही थी, इसलिये मैं और नज़दीक गया और सुनने लगा। तब वो दोनो पापा की बातें कर रहे थे।

माँ कह रही थी- कितने दिन बाद मुझे यह तगड़ा लौड़ा मिल रहा है, वरना गौरव का लौड़ा तो बेकार है।

अब माँ के बुर को दोनों हाथ से फैलाया। माँ थोड़ा सा विरोध कर रही थी लेकिन उनके विरोध में उनकी हामी साफ दिख रहा थी। इसके बाद अंकल जी माँ के बुर पर लण्ड सटा कर हलका सा कमर को धक्का लगाया। माँ के मुह से अह्हह्हह्हह्हह की आवाज निकल गई।

मैं समझ गया कि माँ के बुर में अंकल जी का लण्ड चला गया है। अंकल जी ने कमर को झटका देना शुरू किया। अंकल जी जब जब जोर से झटका लगाते थे माँ के मुँह से आआआआआआअहह्हह्हह्हह्ह की आवाज सुनाई पड़ती थी। कुछ देर के बाद जब अंकल जी ने माँ की चूचियों को मसलना शुरु किया तो उनका जोश और भी बढ़ गया। एक तरफ़ अंकल जी बुर में जोर से झटके लगाने लगे तो दूसरी तरफ़ माँ के चूचियों को जोर जोर से मसलने लगे।

अब माँ की बुर में लण्ड जब आधे से ज्यादा चला गया तो माँ के मुंह से आआआआआआहह्हह नहीं आआआआआ आह्हह्ह की आवाज आने लगी। अंकल जी ने माँ के होठों को चूसना शुरु कर दिया। लगभग आधे घण्टे चोदने के बाद अंकल जी का बीज माँ की चूत में गिरा। माँ भी बहुत ही खुश थी। कुछ देर के बाद अंकल जी ने लण्ड निकल लिया। माँ पांच मिनट तक लेटी रही।

माँ तब उठ कर जाना चाहती थी। अंकल जी ने उनको रोक लिया। उन्होने माँ से कहा- कहा जा रही हो?

तब माँ ने कहा- आज के लिये इतना बस !

तब अंकल जी ने कहा- अभी तो और चुदाई बाकी है, रुक जाओ तुम।

तब अंकल जी ने माँ के पीछे जा कर माँ की गाण्ड पर लण्ड रखा और कमर को पकड़ कर एक जोरदार झटका मारा। माँ के मुँह से आआआआआ आअह्हह्हहह्हह्हह्हह्ह की आवाज निकलते ही मैं समझ गया कि माँ की गाण्ड में लण्ड चला गया। अब अंकल जी ने अपनी कमर को हिलाना शुरू किया और कुछ ही देर में पूरा लण्ड को माँ के गाण्ड में घुसा दिया। अंकल जी माँ के गाण्ड को लगभद दस मिनट तक मारने के बाद जब धीरे धीरे शान्त पड़ गये तो मैं समझ गया कि माँ की गाण्ड में बीज गिर गया है।

अंकल जी ने लण्ड को निकाल लिया तब माँ के पैर को थोड़ा सा फैला दिया क्योंकि माँ ने दोनों पैरों को पूरा सटा रखा था। अंकल जी ने माँ की बुर को देखा, माँ से पूछा- पेशाब नहीं करोगी?

माँ ने गरदन हिला कर कहा- नहीं।

अब अंकल जी ने जैसे ही लण्ड को माँ की बुर के ऊपर सटाया माँ ने अपने दोनो हाथों से अपनी बुर को फैला दिया। अंकल जी ने लण्ड के अगले भाग को माँ की बुर में डाल दिया और माँ की चूचियों को पकड़ कर एक जोरदार झटके के साथ अपने लण्ड को अन्दर घुसा दिया।

माँ मुँह से आआआह्हफ़्फ़फ़्फ़फ़ईईरीईईई धीईईईईईई आआआआआह्हह्स इस्सस्सस्स स्सस्हह्हह कर रही थी। अंकल जी पर उनके इस बात का कोई असर नहीं हो रहा था। वो हर चार पांच छोटे झटके के बाद एक जोर का झटका दे रहे थे। उनका लण्ड जब आधे से ज्यादा अन्दर चला गया तो माँ ने अंकल जी से कहा- अब और अन्दर नहीं डालियेगा वरना मेरी बुर फट जायेगी।

अंकल जी ने कहा- अभी तो आधा बाहर ही है।

माँ ने यह समझ लिया कि आज उनकी गोरी चूत फटने वाली है। माँ की हर कोशिश को नाकाम करते हुए अंकल जी माँ के चूत में अपने लण्ड को अन्दर ले जा रहे थे। माँ ने जब देखा कि अब बरदाश्त से बाहर हो रहा है तो उन्होंने अंकल जी से कहा- मैं आपसे बहुत छोटी हूँ आआआआह्हह्हह्ह ल्लल्लीईईईईज़्ज़ज़्ज़ज़्ज़। आआआह्हह। नहीईईई उईआआआअह्ह्हह्हह।

अंकल जी ने लगातार कई जोरदार झटके मार कर पूरे लण्ड को माँ के बुर में घुसा दिया तथा माँ की चूचियों को मसला। अब माँ को भी मजा आने लगा था। शायद माँ को इसी का इन्तजार था। अंकल जी ने अपने झांट को माँ की झाँट में पूरी तरह से सटा दिया और इस तरह से उन्होंने पूरे पैंतीस मिनट तक माँ की चुदाई की। इसके बाद माँ और अंकल जी शान्त पड़ गये तब मैं समझ गया कि माँ की बुर में अंकल जी का बीज गिर गया है। वो दोनो पूरी तरह से थक चुके थे। अब अंकल जी ने लण्ड को निकाल दिया और माँ की बगल में लेट गये। फ़िर दोनो ने कपड़े पहने और वहाँ से चलने लगे। तब मैं भी वहाँ से हट गया ताकि उनको पता ना चले कि मैंने सब कुछ देख लिया है। हम तीनों घर वापस आ गये।

अंकल जी माँ को देख कर मुस्कुराने लगे कि तुम्हारे बेटे को कुछ नहीं पता चला। लेकिन मैंने भी उनको ऐसा ही दिखाया कि मुझे कुछ नहीं पता है।

मेरी दूसरी कहानी आने वाली है कि अंकल जी ने माँ को हमारे यानि के शहर वाले घर में कैसे चोदा। तो इन्तजार करो दोस्तो।

 

The post अंकल का बीज माँ की चुत मे looked first on Mastaram.Fetch.

loading...


Related Post – Indian Sex Bazar

विधवा मौसी की चूत की प्यास बुझाई Latest Hindi Sex Stories... उनके मुँह से लंड सुन कर लंड और अकड़ गया. मैंने भी ज़ोर नहीं दिया लंड पकड़वाने के लिए! फिर मैंने मौसी...
चूत पर जैसे ही लंड रखता था तभी झड़ जाता था मेरा पति तब मैं ये कदम उठाई ... दोस्तों आपको पायल के तरफ से प्यार भरा नमस्कार और बहुत बहुत प्यार। आज मैं आपको अपनी चुदाई की कहानी सू...
BD Hot Model Prova’s New Picture Collection – Sunny Leone ... RepliesSexy Pornstar Lisa Ann Hardcore Anal Sex, Horny Lisa Ann Hairy Pussy Busty Tits Nude Photo Af...
घने कोहरे में मरवा ली अपनी चूत – Best desi kahani and antarvasn... By admin July 2, 2018 kamukta हेलो हिंदी सेक्स कहानी के मेरे मित्रों। मेरा नाम है दीपिका वर्मा, और म...
चूत मारने के फोटो – Maid and assistant threesome with the boss i... चूत मारने के फोटो - Maid and assistant threesome with the boss in the office Full HD Group porn Full...
मैं और मेरी निशा भाभी – मुफ्त देसी चुदाई की कहानिया हिंदी सेक्स... Main aur meri Nisha bhabhi: bhabhi sex stories, antarvasna मेरा नाम निशांत देशपांडे है और मैं बिहार ...
भाई बहन ननदोई सलहज का याराना-2... रात में मुझे अपने साले और सलहज की मजे के साथ सेक्स में कराहने की आवाज सुनाई देती थी। दोनों की चुदाई ...
गया था खाना खाने, मिट गई लन्ड की भूख Latest Hindi Sex Stories... वो मेरा लण्ड खडा देख कर अब मुझसे मज़े लेना चाहती थी. लेकिन मेरी तरफ से पहल का इंतजार कर रही थी. इस लि...
ऐश्वर्या राय की चूत और गांड में हाथ घुसाया और कार में की चुदाई हिंदी स... ऐश्वर्या राय की चूत और गांड में हाथ घुसाया और कार में की चुदाई हिंदी सेक्स स्टोरी...
ANUSHKA NEW PHOTOS IN SAREE – Indian Desi Aunty Bhabhi Girl Nud... actress anushka in saree pics,actress anushka  in hot saree photos,actress anushka  latest hot photo...
loading...
Newly Published