Get Indian Girls For Sex
   

Swami Ji Seva Aashram Me - YouTube 2016-05-07 12-16-55

( मधु की टांग को नीचे किया और उसके दोनों पांव के बीच आकर उसकी बुर में लण्ड डाला )

यह कहानी उस वक़्त की है जब हम लोग अपना पुराना घर छोड़ कर नए घर में आ गए थे।
उस वक़्त हमारा घर पर ज्यादा लोगों का आना-जाना नहीं था, तब हमारे घर से दूर एक घर था, वहाँ के आंटी और अंकल हमारे घर आते थे, वो बहुत बूढ़े थे और उनका सबसे बड़ा लड़का सपन जिसकी उम्र करीब 35 साल की होगी, वो एक रिपोर्टर था और एक न्यूज़ एजेंसी में काम करता था।
क्योंकि उनके घर जाने के लिए पक्की सड़क नहीं थी वो अपनी गाड़ी हमारे घर में ही खड़ी कर देते थे। वो अक्सर हमारे घर पर आते थे और मम्मी और हम लोगों से खूब बातें करते थे। हम भी उन्हें सपन भैया बोलते थे, सपन भैया माँ को चाची बुलाते थे।
एक बार की बात है, सपन भैया घर पर आए हुए थे। मैंने उन्हें माँ को बोलते सुना- आजकल अपना नया घर जो बन रहा है, वहीं प्लॉट में रहता हूँ, कभी आओ तो तुम्हें अपना दिखाऊँ !
ऐसा बोलते हुए उन्होंने अपने लण्ड वाली जगह पर पैंट के ऊपर हाथ फिराया।
माँ हंसते हुए बोली- आती हूँ, देखती हूँ कि तुम्हारा घर कितना मजबूत और ताकतवर है !
क्योंकि मैं बहुत छोटा था और वो यह समझ रहे थे कि मुझे उनकी बात समझ नहीं आ रही है।
क्योंकि घर पर था भी कोई नहीं उस समय।
सपन भैया बोलने लगे- बहुत मजबूत है, तुम पकड़ कर देखोगी तो और मजबूत हो जाएगा।
ऐसी बातें बोल कर वो दोनों बात कर रहे थे।
माँ ने उन्हें बोला- कल आती हूँ मार्केट से वापस लौटते समय आऊँगी !
फिर सपन चले गए।
अगली दिन माँ ने मुझे बाज़ार चलने को बोला और वो तैयार होने लगी। उस दिन तो उन्होंने परफ़्यूम भी लगाया था।
बाज़ार से सामान खरीदने के बाद वो मुझसे बोली- चिंटू, तूने अपने सपन भैया का घर नहीं देखा है ना?
मैंने बोला- नहीं !
तो बोलने लगी- देखेगा? चल तुझे घुमा लाती हूँ।
और बोली- अगर तू चलेगा तो तुझे चॉकलेट दिलवाऊँगी !
मैं भी चॉकलेट के नाम से खुश हो गया और उन्हें चलने को बोला।
माँ ने रिक्शा किया और हम दोनों बाज़ार से चल दिए। फिर एक जगह पहुँच कर माँ ने रिक्शा छोड़ दिया और थोड़ी दूर पैदल चलने लगे। कुछ ही दूरी के बाद हम एक नए बन रहे घर के पास थे। मैंने सपन भैया की गाड़ी पहचान ली।
मम्मी ने मुझे शोर करने से मना कर दिया, बोली- चुप ! आराम से ! नहीं तो मारूँगी !
हम जैसे ही घर के अन्दर गए, वहाँ रेत और सीमेंट की बोरियाँ पड़ी हुई थी। दो कमरे पार करने के बाद एक कमरे में एक खाट बिछी थी जिस पर सपन भैया लेटे हुए थे लुंगी और बनियान में !
जैसे ही माँ अन्दर घुसी, मुझे आवाज आई- आओ मेरी जान !
माँ ने तुरंत उनकी बात को बीच में काटते हुए कहा- चिंटू भी है !
सपन भैया ने बोला- वो तो अभी बच्चा है !
माँ बोली- नहीं, थोड़ा रुको !
इतनी देर में वहाँ का चौकीदार भी आ गया लेकिन वह सपन भैया को देख कर कुछ नहीं बोला। माँ भी एक तरफ़ होकर खड़ी हो गई।
सपन भैया ने बोला- चौकीदार, तुम जाओ, चिकन लेकर आओ ! आराम से आना और हमारे चिंटू को भी साथ ले जाओ, उसे चॉकलेट और पतंग दिला देना !
ऐसा बोल कर मुझसे बोलने लगे, माँ ने भी बोला- जाओ चिंटू, घूम कर आओ ! चॉकलेट ज्यादा मत खाना !
फिर सपन भैया ने चौकीदार को पांच सौ का नोट दिया, बोले- एक अद्धा दारू, चिकन और बाकी तू रख लेना !
और बोले- समझ गया ना कि क्या करना है?
लेकिन मैंने उनकी बातें सुन ली थी क्योंकि आसपास वहाँ दूर दूर तक कोई घर नहीं था। मैं चौकीदार के साथ बाहर आ गया। थोड़ी ही दूर चलने के बाद मैं मम्मी से कुछ पूछने के लिए वापस आया। जैसे ही मैं वापस आया, सपन भैया माँ को पकड़े हुए थे और उन्हें चूम रहे थे।
मैं जल्दी से ही घुसा, मुझे देखते ही वो अलग अलग हो गए और बोले- चिंटू जाओ आराम से आना !
मैं वापस आ गया, थोड़ी देर के बाद चौकीदार दारु के ठेके में जाने लगा। मैंने उससे बोला- मेरे दोस्त का घर है यहाँ, मैं वहीं जा रहा हूँ। मैं यहाँ एक घण्टे बाद आऊँगा।
चौकीदार को दारू पीनी थी तो वो भी मान गया और वो अन्दर चला गया। मैं दौड़ते हुए वापस आ गया और धीरे-धीरे सीढ़ी चढ़ कर ऊपर चला गया जहाँ से मुझे सपन भैया का कमरा का साफ़ दिख रहा था।
माँ अब खाट पर बैठ गई थी और सपन ने खिड़की में पुरानी चादर ढक दी और माँ के साथ में चूमा-चाटी करने लगा। उसने एक हाथ से माँ की साड़ी ऊपर कर दी। मधु ने चड्डी नहीं पहनी थी और उसकी झाँट भी साफ थी।
सपन बोला- मेरी जान, लगता है खूब मूड बना कर आई हो !
मधु बोली- हाँ ! मक्खन जा देखना था ! अब सपन ने मधु के दूध को खूब मसला जो करीब 40 के होंगे।
मधु भी खूब साथ दे रही थी और सपन की पैंट को सहला रही थी। थोड़ी देर के बाद सपन खड़ा हो गया, मधु ने अपनी साड़ी को और हटाया और बोली- आ जाओ !
सपन बोला- मुझे ऐसे मजा नहीं आता, तुम पूरे कपड़े उतारो ना !
मधु बोली- कोई आ गया तो मुश्किल हो जाएगी।
अब सपन उसके दूध पकड़ कर बोला- कोई नहीं आयेगा मेरी जान, आज भरपूर मजा लेंगे।बोलते हुए मधु का ब्लाऊज़ और साड़ी खोल दिए। मधु अब पूरी नंगी थी।
सपन उसके दोनों पैरों के बीच बैठ कर उसकी बुर को चाट रहा था, मधु सपन के बालों को सहला रही थी और अपना होंठों को दाँतों से काट रही थी। लग रहा था उससे भरपूर मज़ा आ रहा था।
सपन ने अब अपनी एक ऊँगली मधु की बुर के अन्दर डाल दी। मधु के मुँह से आवाज़ आने लगी- व अह आह्ह्ह सपन आ आआ बस कर बस कर ! ऊ ओ !
सपन ने दो उंगलियाँ अन्दर डाल दी और अन्दर-बाहर करने लगा।
माँ उह्ह्ह्ह ह्ह्ह्ह कर रही थी। थोड़ी ही देर में मधु बोली- सपन अब मत तड़पाओ, आओ जल्दी अपना लण्ड डाल दो !
लेकिन सपन लगातार उसकी बुर में उंगली कर रहा था। थोड़ी ही देर में मधु की बुर का पानी आ गया।
सपन ने उसको पूरा चाट लिया और बोला- बड़ा ही मज़ेदार पानी है रे तेरा !
और वो मधु के पास बराबर में लेट गया।
मधु बोली- मेरा तो पानी निकल गया है लेकिन तूने अपना सामान नहीं निकाला !
बोलते हुए अपना हाथ उसकी लुंगी के अन्दर डाल दिया। मधु अब लुंगी के अन्दर ही उसके लण्ड का सहला रही थी। सपन ने लुंगी उतार दी और अपना नौ इंच का काला लण्ड जो साफ़ दिख रहा था कि बहुत ही बड़ा और मजबूत था, मधु के मुँह में घुसा दिया, मधू उसे मज़े ले लेकर चूसने लगी और सपन उसके चूचों को मसल रहा था।
तब मधु बोली- आओ सपन, देर ना कर !
और मधु ने अपने दोनों पैर ऊपर कर लिए, सपन ने मधु को एक तरफ़ किया, उसे एक पैर ऊपर करने को बोला और उसके पीछे से अपना लण्ड मधु की बुर में रगड़ने लगा, और जोर से एक धक्का मारा, मधु के मुँह से अह्ह्ह्ह धीरे की आवाज आई।
सपन ने एक हाथ से मधु के दूध को पकड़ा, अपना लण्ड थोड़ा बाहर निकाला और फिर जोर से अन्दर डाल दिया। मधू ओह्ह्ह्हह्ह सपन ! मर गई मैं !
सपन अपना लण्ड जोर-जोर से अन्दर-बाहर कर रहा था और मधु के मुँह से सिसकारियाँ निकल रही थी।
करीब पाँच मिनट ऐसे ही चोदने के बाद सपन ने मधु की टांग को नीचे किया और उसके दोनों पांव के बीच आकर उसकी बुर में लण्ड डाला। बीच-बीच में उसका लण्ड बाहर भी आ जाता था, तो मधु लुंड पकड़ कर फिर से अन्दर डाल लेती।
दोनों जम कर चुदाई का आनन्द उठा रहे थे। करीब बीस मिनट के बाद सपन ने अपनी गति तेज कर दी और वो कुछ ही देर में शान्त हो गया, मधु के ऊपर ही निढाल होकर गिर गया।
मैं समझ गया था कि सपन ने अपना पानी माँ की बुर में डाल दिया है
मधु अब उसकी पीठ को सहला रही थी, और मधु की बुर से सपन का पानी धीरे-धीरे निकल रहा था। दोनों ही पसीने-पसीने हो गए थे। दोनों करीब दस मिनट तक ऐसे ही लेटे रहे।
फिर मधु सपन के लण्ड को सहलाने लगी। सपन भी समझ गया था कि मधु का और मूड है।
अब सपन मधु की गाण्ड पर हाथ फ़ेरने लगा तो मधु बोली- नहीं, इसमें नहीं ! दर्द होगा !
लेकिन सपन कहाँ मानने वाला था, उसने मधु को पेट के बल लिटा दिया, मधु ने अपने दोनों हाथों से अपनी गाण्ड का छेद फैलाया और बोली- ले कर ले अपने मन की !
सपन ने अपना लण्ड अन्दर डालने की कोशिश की तो मधु के मुँह से निकला- ओह्ह्ह माँ ! मैं मर गई ! सपन निकाल ! मैं मर जाऊँगी !
लेकिन सपन ने अपना लण्ड और अन्दर धकेल दिया और भरपूर जोर से अन्दर-बाहर करने लगा
दस मिनट के बाद उसने अपना पानी मधु की गाण्ड में छोड़ दिया और उससे लिपट गया। दोनों पाँच मिनट तक ऐसे ही लेटे रहे, फिर मधु ने पास में ही रेत में मूत दिया। मूतते समय उसके बुर से सपन का पानी भी बाहर आ गया।
मधु अपनी साड़ी पहनने लगी, सपन तब भी लेटा हुआ था नंगा !
मधु ने उसे उसकी लुंगी देते हुए बोला- पहन लो कोई आ जायेगा !
जब दोनों ने ही अपने कपड़े पहन लिए तो मैं भी नीचे उतर आया धीरे धीरे !
दस मिनट के बाद मैं जोर-जोर से आवाज करते हुए वहाँ आ गया और मुझे देखते ही माँ बोली- आ गया चिंटू ! चल, हम चलें ! तूने नहीं देखा तेरे सपन भैया की इमारत बहुत ही मजबूत है ! और सपन की तरफ इशारा किया।
सपन बोला- अगले शुक्रवार को आना तो और दिखाऊँगा।
मधु और मैं बाहर आ गए, मधु गाना गुनगुना रही थी और बहुत ही खुश थी...
अगली कहानी बाद में !